स्वचालित टेलर मशीन

ऑटोमेटेड टेलर मशीन (एटीएम) 1960 के दशक में पहली बार व्यवहार में लाई गई थी। 2005 तक, 1.5 लाख से अधिक एटीएम दुनिया भर में स्थापित कर दिए गए थे। एटीएम की शुरुआत तकनीकी विकास की एक महत्वपूर्ण उन्नति साबित हुई जिसने वित्तीय संस्थानों को अपने ग्राहकों को 24x7 वातावरण में सेवाएं प्रदान करने के लिए सक्षम किया। एटीएम ने ग्राहकों को, वे जहाँ भी हों, निकटतम एटीएम से अपने नकदी का उपयोग करने को सक्रिय कर उनकी सुविधा को बढ़ाया है।.

वित्तीय संस्थानों ने अपने एटीएम में सुरक्षा का उन्नयन और धोखाधड़ी के लिए प्रयोजन कम करने के लिए कई रणनीतियों लागू की हैं। इन में एटीएम स्थापित करने के लिए सुरक्षित स्थान चुनना, निगरानी वीडियो कैमरों की स्थापना, दूरस्‍थ निरीक्षण, एंटी कार्ड स्किमिंग समाधान और उपभोक्ता को उन्हें एटीएम या इंटरनेट पर लेनदेन करते समय, उनकी निजी जानकारी की सुरक्षा के विभिन्न तरीकों के बारे में जानकारी के द्वारा उनकी जागरूकता को बढ़ाना जैसे कार्यों का समावेश है।.

जोखिम

जालसाज़ एटीएम कार्ड स्लॉट में एक प्लास्टिक की फिल्म का तह किया हुआ टुकड़ा डालता है जो कार्ड को पकड़ लेगा और वह मशीन को उसे निष्कासित करने की अनुमति नहीं देगा। शिकार को यह प्रतीत होगा कि उसका कार्ड मशीन में फँस गया है और वह कार्ड स्लॉट के साथ की गई छेड़छाड़ पर ध्यान नहीं देगा।.

एक बार जब कार्ड फंस गया हो, जालसाज़ एक वास्तविक कार्डधारक के रूप में नाटक कर शिकार को सुझाव देता है कि वह फिर से अपना सुरक्षा कोड दर्ज करे। जब कार्डधारक अंततः निराशा में चला जाता है, जालसाज़ कार्ड पुन: प्राप्त कर लेता है और वह कोड डालता है जो उसने गुप्त रूप से देखा है।.

एक और तरीका है नकली कार्ड के उपयोग, जो छोटे कैमरों और उपकरण जिन्हें "स्किमर्स" कहते हैं उनके द्वारा एकत्रित डाटा का उपयोग कर के जो बैंक खाते की जानकारी पर कब्जा करते हैं और उन्हें रिकॉर्ड कर लेते हैं। इस में कम जोखिम है क्योंकि इस में जालसाज़-शिकार के बीच कोई बातचीत नहीं होती और किसी भी जालसाज़ की अनुपस्थिति कार्डधारक को अधिक निश्चिंत और पासवर्ड की सुरक्षा के बारे में कम सतर्क रखती है।.

एटीएम धोखाधड़ी की एक और दिलचस्प विधि जालसाज़ द्वारा "डुप्लिकेट एटीएम" का उपयोग है, जिसमें एक सॉफ्टवेयर का उपयोग होता है जो उन मशीनों पर टाइप किए गए पासवर्ड रिकॉर्ड कर लेता है। उसके बाद, डुप्लीकेट कार्ड बनाए जाते हैं और चोरी के पासवर्ड के उपयोग के साथ पैसे निकाले जाते हैं। कभी कभी ऐसी धोखाधड़ी कार्ड जारी करने वाले कंपनी के कर्मचारियों की मिलीभगत से होती है। इन धोखाधड़ियों का कोई भी तरीका हो परंतु यह निश्चित रूप से संबंधित देश के कानून के अनुसार अवैध और दंडनीय है। हालांकि दंड देने से इस प्रक्रिया में खोए हुए पैसे वापस नहीं मिल सकते। चोरी की संपत्ति की बहाली का सबसे अच्छा तरीका न होने पर भी, इस प्रकार, एक अपराधी की सजा अन्य अपराधियों के लिए निवारक साबित होगी। इसलिए निरोधक निगरानी और एटीएम धोखाधड़ी जोखिम से सुरक्षा सही दृष्टिकोण होना प्रतीत होता है।.

टिप्स

  • अपने मोबाइल दूरभाष नंबर और ई-मेल को अपने बैंकिंग लेनदेन के साथ समय पर एसएमएस चेतावनी और ई-मेल के लिए सक्षम करें।.
  • आपके वित्तीय संस्थान या बैंक आपको कभी भी आपना बैंकिंग विवरण ऑनलाइन दर्ज करने के लि ई-मेल नहीं भेजेंगे।.
  • अपने क्रेडिट कार्ड या बैंक खाते के विवरण की नियमित रूप से जाँच करें और अपने लेनदेन का की जानकारी रखें।.
  • चैक बुक, बयान, डेबिट/क्रेडिट कार्ड की सही पते पर प्राप्ति के लिए अपने विवरण जैसै पते के परिवर्तन को अद्यतन करें।.
  • फ़िशिंग हमलों से रक्षा के लिए, आपका ब्राउज़र फ़िशिंग फिल्टर से सक्षम रखें और अपने ई-मेल में कभी भी अद्यतन और लेनदेन करने के लिए लिंक क्लिक न करें।.
  • एक मजबूत और याद रखने में आसान पासवर्ड रखें और उसे नियमित रूप से बदलें। .
  • विशिंग, फ़िशिंग का एक प्रकार है, जहां लोगों को व्यक्तिगत जानकारी देने के लिए फांसने की कोशिश करने वाले ई-मेल प्राप्त होने के बजाय आपराधी एक सेल दूरभाष, चाहे सजीव या स्वचालित का उपयोग बैंक या क्रेडिट यूनियन ग्राहक पर आक्रमण के लिए और महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करने के लिए करता है।.
  • जब आप एक बैंक या क्रेडिट कार्ड प्रदाता से एक कॉल प्राप्त करें अपने आप को व्यक्तिगत जानकारी देने से प्रतिबंधित करने का प्रयत्न करें।.
  • एक "no tampering" का चिन्ह देखें। अपराधी प्राय: यह एक नए उपकरण के लिए किसी उत्सुक को रोकने के लिए रखते हैं।.
  • एक अटकी हुई एटीएम मशीन जो ग्राहकों को एक दूसरी एटीएम जिसमें स्किमर संलग्न होता है उसका उपयोग करने के लिए दबाव डालती है उससे बच के रहें। बहुधा, उपयोगकर्ताओं को उस एटीएम पर लाने के लिए आकर्षित करने के लिए जिस पर स्किमिंग उपकरण है, अपराधी इस क्षेत्र के अन्य एटीएम को निष्क्रिय कर देगा।.
  • पुष्टि करने के लिए कि कोई असामान्य या अनधिकृत लेनदेन नहीं है, ग्राहकों को उनके बैंक खातों की नियमित रूप से जाँच करनी चाहिए। संघीय कानून एटीएम धोखाधड़ी को सीमित बनाए रखते हैं और कई बैंक अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान करते हैं। उपभोक्ताओं को विवरण के लिए अपने वित्तीय संस्था के साथ जाँच करनी चाहिए।.
  • यदि आप किसी एटीएम के आसपास कुछ भी असामान्य या संदिग्‍ध देखते हैं, या आप अपने बैंक खाते पर अनधिकृत एटीएम लेनदेन पाते हैं, तुरंत स्थानीय कानून प्रवर्तन और साथ ही अपने वित्तीय संस्था को सूचित करें और/या जहां एटीएम स्थित है वहाँ के संस्थापन को।.
  • सदैव अपने पिन की रक्षा करें: किसी को भी नंबर न दें, और जब आप अपना पिन प्रवेश कर रहे हों कीपैड को ढक लें।.
Page Rating (Votes : 1)
Your rating: