वर्तमान युग में इंटरनेट का उपयोग प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में चौबीसों घंटे होता है, जहां व्यक्तियों के बीच संचार साइबर स्पेस में होता है। इसके परिणामस्वरूप इंटरनेट एडिक्शन डिसऑर्डर (IAD), या अधिक मोटे तौर पर इंटरनेट अति प्रयोग, कंप्यूटर / स्मार्ट फोन का समस्याग्रस्त उपयोग हो सकता है। इंटरनेट की लत को किसी भी ऐसे ऑनलाइन संबंधित बाध्यकारी व्यवहार के रूप में परिभाषित किया गया है जो सामान्य जीवन में हस्तक्षेप करता है और पारिवारिक मित्रों, प्रियजनों के तथा कार्यस्थल के माहौल पर गंभीर तनाव का कारण बनता है। इसे इंटरनेट पर निर्भरता और इंटरनेट की मजबूरी भी कहा जा सकता है।

इंटरनेट के उपयोग को ट्रिगर करने वाले कारक:

बोरियत/अवसाद:

अकेली महिलाएं बोरियत के कारण सोशल मीडिया व ख़ास तौर से इंटरनेट की आदी हो जाती हैं। वे अपने स्टेटस पर नए अपडेट देखने के लिए अपने सोशल मीडिया प्रोफाइल चेक करती रहती हैं और साथ ही दूसरों के स्टेटस पर खुदको या अन्य लोगों को मिले लाइक्स अथवा शेयर्स की संख्या देखने के लिए उनका प्रोफ़ाइल चेक करती रहती हैं। यह एक व्यक्ति के लिए जुनून बन जाता है और उसके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को भी प्रभावित करता है।

तनाव और पलायनवाद:

कई महिलाएं जो कार्यालय में या पारिवारिक जीवन में तनाव में रहती हैं, वे अपने तनाव को दूर करने के लिए इंटरनेट पर निर्भर रहती हैं और उस तनावपूर्ण स्थिति से छुटकारा पाने का एक आसान तरीका भी मानती हैं।

इंटरनेट से संबंधित गतिविधियाँ

सोशल मीडिया:

ज्यादातर महिलाएं सोशल मीडिया की दीवानी हैं। उनमें से ज्यादातर अपने सोशल मीडिया प्रोफाइल की जाँच करके या जैसा कि आजका चलन है, फ़र्ज़ी तस्वीरों को अपडेट करके अपने दिन की शुरुआत करती हैं। अपने जीवन के प्रत्येक सेकंड को सोशल मीडिया पर दिखाना और पोस्ट के लिए अधिक से अधिक लाइक और शेयर प्राप्त करना –साइबर दुनिया के यही वर्तमान परिदृश्य है जिसे ज्यादातर महिलाएं देखती हैं।

ऑनलाइन शॉपिंग:

महिलाओं के जीवन में शॉपिंग सबसे दिलचस्प पहलू है। ऑनलाइन शॉपिंग ने महिलाओं के लिए विकल्पों से भरी दुनिया खोल दी है। वे अलग-अलग ऑनलाइन शॉपिंग पोर्टल्स पर अलग-अलग उत्पादों को चाहे ख़रीदें या नहीं, लेकिन खोजती रहती हैं। उनमें से अधिकांश को इंटरनेट पर बिताए समय को कम करना भी मुश्किल लगता है।

ऑनलाइन गेमिंग:

महिलाओं का एक ऐसा छोटा वर्ग है जो ऑनलाइन गेमिंग का भी आदी है। अधिकांश महिलाएं वास्तविक दुनिया में सामाजिक तौर पर सक्रिय रहने के बजाय ऑनलाइन गेमिंग में अपने खाली समय को व्यतीत करती हैं।

ऑनलाइन चैटिंग:

चैटिंग का उपयोग सभी करते हैं, लेकिन कुछ लोग ऐसे हैं जो चैट करना बंद नहीं कर सकते हैं। इसमें किसी भी तरह से की जाने वाली चैटिंग शामिल है। कई बार महिलाएं सामाजिक संबंधों से पीछे हट जाती हैं क्योंकि उन्हें आभासी दुनिया में अधिक सुकून और आनंद मिलता है।

इंटरनेट की लत की पहचान कैसे की जा सकती है?

  • स्मार्ट फोन का उपयोग करते समय प्रसन्नता या उत्साह की भावना होना ।
  •  गतिविधि को रोकने में असमर्थता।
  •  स्मार्टफ़ोन पर अधिक से अधिक समय बिताने के लिए छटपटाहट।
  • परिवार और दोस्तों की उपेक्षा।
  • कंप्यूटर पर न होने पर खालीपन, उदासी और चिड़चिड़ापन महसूस करना।
  • गतिविधियों के बारे में परिवार और दोस्तों से झूठ बोलना।
  • स्कूल या काम को लेकर समस्याएं।

एक बार जब आप इंटरनेट के आदी हो जाते हैं, तो यह आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर प्रभाव जीवन को विभिन्न साइबर खतरों के लिए जोखिम में डालकर आपके पड़ेगा।

इंटरनेट की लत से कैसे बचें

  • इंटरनेट के उपयोग के लिए अपनी समय सीमा निर्धारित करें।
  • एक ऐसा ऐप इंस्टॉल करें जो आपके सेल फोन/इंटरनेट के उपयोग को ट्रैक करता रहे और उसे दिन-प्रतिदिन कम करने की योजना दर्शाता रहे।
  • इसके अलावा आप लंबे समय तक इंटरनेट का उपयोग करने को प्रतिबंधित करने के लिए अपने दोस्तों /परिवार की मदद ले सकते हैं।
  • कंप्यूटर गेम अनइंस्टोल करें, और कम से कम एक या दो महीने के लिए सोशल नेटवर्क व अन्य मनोरंजक वेब गतिविधियों से दूर रहने की कोशिश करें।
  • इंटरनेट ब्राउज़िंग के लिए समय निर्धारित करें, लेकिन उसे आवश्यकता से अधिक नहीं करें।
  • लेख पढ़ना, ब्राउज़ करना, वीडियो देखना, ईमेल को लैपटॉप पर भेजना – ऐसी गतिविधियों की ओर जाएँ।
  • ऐप्स और ईमेल नोटिफ़िकेशंस को ऑफ़ करें ।
  • लत लगाने वाली वेबसाइटों से दूर रहने की कोशिश करें।
  • विषय / नौकरी से संबंधित पुस्तकें / पत्रिकाऐं पढ़ने की ओर जाएँ। इससे आपकी पढ़ने की आदत बढ़ेगी।
  • उस पैसे के बारे में सोचें जो आप इंटरनेट पर नहीं होने पर बचा सकते हैं।
  • ऐसे कारणों की एक सूची बनाएं कि अगर आप इंटरनेट का कम उपयोग करते हैं तो आप क्यों खुश रहेंगे।
  • बेडरूम से इंटरनेट सक्षम उपकरणों को हटा दें।
  • अपने सोने के तरीके को नियमित करें। इंटरनेट के कारण बहुत से लोगों की नींद ख़राब होती है और वे अपने सोने के तरीके को गड़बड़ कर देते हैं। यह आपके लिए फायदेमंद होगा क्योंकि आप अधिक व्यवस्थित और आत्म अनुशासित हो जाएंगे।
Page Rating (Votes : 1)
Your rating: