साइबरस्ट्रालिंग प्रौद्योगिकियों का उपयोग करके किसी अन्य व्यक्ति पर चोरी-छुपे नज़र रखना या बार-बार उसे परेशान करना है। इसमें ई-मेल जैसे इलेक्ट्रॉनिक मीडिया शामिल हैं, जिनके द्वारा किसी व्यक्ति या समूह के लोगों पर चोरी-छुपे नज़र रखने या उन्हें परेशान करने के लिए आपत्तिजनक सामग्री भेजी जाती है। इसमें धमकी, मानहानि, पहचान की चोरी, सेक्स के लिए याचना, झूठे आरोप आदि सहित कई चीजें शामिल हो सकती हैं। एक साइबर शिकारी ऐसा व्यक्ति हो सकता है जिससे पीड़ित परिचित हो, या फिर पूरी तरह अजनबी, और एक संगीन अपराध है।

साइबरस्टॉकर महिलाओं को कैसे नुकसान पहुंचा सकता है?

  • वे आपकी प्रतिष्ठा या आपके दोस्तों / परिवार / सहकर्मियों आदि के साथ संबंधों को नुकसान पहुंचाने के लिए आपकी ऑनलाइन पहचान को धारण कर सकते हैं।
  • वे आपके सोशल मीडिया अकाउंट तक पहुंच सकते हैं और आपकी ऑनलाइन गतिविधियों, आपकी व्यक्तिगत जानकारी और आपका पासवर्ड भी बदल सकते हैं।
  • वे GPS या किसी स्पाइवेयर का उपयोग करके आपके स्थान को ट्रैक कर सकते हैं।
  • वे सोशल मीडिया पर आपकी पोस्ट / तस्वीरों पर टिप्पणी करते समय अपमानजनक भाषा का उपयोग कर सकते हैं।
  • वे आपके परिवार / दोस्तों / सहकर्मियों आदि के साथ बातचीत करके आपकी व्यक्तिगत और संवेदनशील जानकारी इकट्ठा करने की कोशिश कर सकते हैं।
  • वे आपको अपनी व्यक्तिगत तस्वीरें, वीडियो आदि साझा करने के लिए ब्लैकमेल कर सकते हैं जो आपके लिए बहुत शर्मनाक होगा।

आजकल साइबरस्टॉकिंग किसी महिला के लिए जोखिम का एक बड़ा विषय बनता जा रहा है। यह खतरनाक हो सकता है और शारीरिक शोषण में विकसित हो सकता है। साइबरस्टॉकिंग की रिपोर्ट करने का इंतजार न करें। जितनी देर तक साइबर हमले होते रहेंगे, आप उतनी ही भावनात्मक, मानसिक या शारीरिक रूप से समस्या झेलेंगी।

तथ्य यह है कि साइबरस्टॉकिंग में शारीरिक संपर्क शामिल नहीं है, इसका मतलब यह नहीं है कि यह "वास्तविक जीवन" में होने वाली स्टॉकिंग की तुलना में कम खतरनाक है। एक अनुभवी इंटरनेट यूजर (साइबर स्टॉकर) के लिए आपकी व्यक्तिगत जानकारी, जैसे कि फ़ोन नंबर या आपके दोस्तों, रिश्तेदारों, आपके काम करने की जगह आदि को ढूंढना मुश्किल नहीं है।

आप कैसे जान सकती हैं कि आप साइबर स्टाकिंग की शिकार हैं?

जब आप कुछ अनाम गतिविधियों को महसूस करती हैं जैसे -

  • कोई व्यक्ति एक दिन या सप्ताह में अधिकतम बार आपकी प्रोफ़ाइल पर जाता है- कोई आपकी पोस्ट या तस्वीरों पर गलत तरीके से टिप्पणी करता है या अपमानजनक शब्दों का इस्तेमाल करता है।
  • कोई व्यक्ति सोशल मीडिया पर आपकी व्यक्तिगत और संवेदनशील जानकारी के बारे में पूछता है
  • कोई आपसे फोटो और वीडियो मांगता है

यदि आप इस प्रकार की गतिविधियों को महसूस करती हैं, तो नजरअंदाज न करें और तुरंत इसके संबंध में कार्यवाही करें।

साइबरस्टॉकिंग को हराना मुश्किल है क्योंकि स्टाकर दूसरे राज्य में भी हो सकता है या फिर पीड़ित से तीन क्यूबिकल दूर भी बैठा हो सकता है। इंटरनेट की गुमनाम दुनिया में, एक स्टॉकर की पहचान को सत्यापित करना, गिरफ्तारी के लिए आवश्यक साक्ष्य एकत्र करना और फिर उसके भौतिक स्थान का पता लगाना मुश्किल है, इसलिए हमेशा सुरक्षा के पहलुओं  की अनदेखी न करते हुए सुरक्षित रहना और ऑनलाइन संसाधनों का बहुत प्रभावी ढंग से उपयोग करना बेहतर होता है।

साइबर हमले से सुरक्षित रहने के लिए आपको क्या करना चाहिए: -

  • किसी भी सोशल मीडिया का उपयोग करते समय अपने परिवार और ज्ञात दोस्तों के दायरे में ही गोपनीयता सेटिंग को रखना हमेशा बेहतर होगा।
  • किसी भी फ्रेंड रिक्वेस्ट को स्वीकार करने से पहले सोशल मीडिया पर व्यक्ति की प्रामाणिकता की हमेशा जांच करें।
  • यदि आप डिवाइस का उपयोग नहीं कर रही हैं, तो हमेशा उससे अपने जीपीएस को अक्षम करें, ताकि स्टॉकर को आपका स्थान न मिल सके।
  • यदि आपका ऑनलाइन दोस्त आपकी व्यक्तिगत जानकारी या किसी भी फोटो / वीडियो की मांग करता है, तो उसके साथ कभी भी साझा न करें।
  • हमेशा सतर्क रहें कि आपके ऑनलाइन दोस्त आपकी तस्वीरों या किन्ही भी गतिविधियों पर क्या टिप्पणी कर रहे हैं, अगर आपको लगता है कि टिप्पणियां गुमनाम हैं तो उन्हें तुरंत ब्लॉक करें।
  • यदि आपका कोई भी सोशल मीडिया मित्र आपके साथ दुर्व्यवहार करता है या कुछ गुमनाम गतिविधि करता है तो सोशल मीडिया सेटिंग के माध्यम से उन्हें तुरंत रिपोर्ट करें रिपोर्ट करता है या उसे ब्लॉक कर दें, यदि उसके बाद भी वो आपको फ़ॉलो करे तो पुलिस में उसकी शिकायत करने में ज़रा भी देर न करें।

साइबर हमले से सुरक्षित रहने के लिए आपको क्या करना चाहिए?

  • सोशल मीडिया पर किसी भी ऑनलाइन दोस्त पर भरोसा न करें।
  • अपनी व्यक्तिगत जानकारी / फोटो / वीडियो को सोशल मीडिया पर सार्वजनिक रूप से साझा न करें।
  • अपनी गतिविधियों को ऑनलाइन पोस्ट करते समय अपना स्थान साझा न करें।
  • अपने ऑनलाइन मित्रों के अनाम व्यवहार को अनदेखा न करें।
  • यदि आपको लगता है कि साइबर स्टॉकिंग या कोई भी अनाम गतिविधियाँ आपके साथ हो रही हैं तो शिकायत करने में देरी न करें क्योंकि यह आपकी गलती नहीं है।

Source:

Page Rating (Votes : 0)
Your rating: