इंटरनेट सुरक्षा प्रत्येक की जिम्मेदारी है। यह-अपने दोस्तों के साथ चैट,अपने द्वारा लिखे गये गाने या बनाये गये वीडियो को पोस्ट करने में,अपनी रुचिनुसार क्षेत्रों की अधिक से अधिक जानकारी प्राप्त करने में और नवीनतम रुझानों को जानने में जैसी ऑनलाइन मनोरंजक एवं ज्ञानवर्द्धक गतिविधियां करने में सक्रिय होना है। यह बिना परेशानी, नाराज या धोखाधड़ी, या अपने विचारों व पहचान की चोरी हुए बिना किया जा सकता है।.

इंटरनेट सुरक्षा के मायने अपने कंप्यूटर में नवीनतम एंटी-वायरस और फ़ायरवॉल सॉफ्टवेयर इंस्टाल सुनिश्चित करने से बहुत अधिक हैं। इंटरनेट सुरक्षा बताती है कि आप अपने आप को ऑनलाइन हैंडिल करने में और अन्य लोगों(विशेषकर ऑनलाइन किसी अजनबी से मुलाकात के समय) का सामना करने में कितने बुद्धिमान और जानकार है एवं ऐसे किसी जाल में नहीं फंसते हैं जिसमें स्कैम कलाकार अपनी अज्ञानता का फायदा उठाकर आपको नुकसान पहुंचा जाते हैं।

ऑनलाइन सुरक्षित रहना महत्वपूर्ण क्यों है?
हम में से अधिकांश अपने लेपटाप्स, मोबाईल फोन्स, टेबलेट्स या व्यक्तिगत कंप्यूटर के माध्यम से ‘संबद्ध’ रहते हैं | मनोरंजन के लिए, मित्र बनाने, संपर्क बनाए रखने और सीखने के स्त्रोत हेतु इंटरनेट एक मूल्यवान स्त्रोत है | लेकिन यदि आप इंटरनेट का उपयोग बिना सुरक्षा की जागरूकता के करते हैं, तब आप गैरकानूनी गतिविधि या दुष्कर्म की जोखिम में आ सकते हैं, फिर वह चाहे बदमाशी हो, धोखाधड़ी हो या इससे भी कोई गंभीर बात हो |.

यह ठीक उसी तरह है जब आप घर छोड़ते हैं तो सुरक्षा के बारे में जान पाते हैं। उसी तरह यह जानना महत्वपूर्ण है कि कैसे ऑनलाइन सुरक्षित कैसे रहें। यह हासिल कुशलता आपके साथ जीवन भर रहेगी।.

जब भी आप ऑनलाइन हों इन बहुमूल्य नियम का पालन करें |

  • अपना पता या फोन नंबर जैसी व्यक्तिगत जानकारी किसी को न दें।.
  • अपने चित्र विशेषकर अशोभनीय दिखने वाले किसी को भी नहीं भेजें।.
  • अनजान लोगों के मेल या मेल अटेचमेंट नहीं खोलें।.
  • अनजान लोगों के साथ ऑनलाइन दोस्ती करने से बचें।.
  • कभी भी ऑनलाइन मित्र से व्यक्तिगत तौर पर मिलने से बचें।.
  • कुछ भी ऑनलाइन चिंतित करने वाली देखी या पढ़ी गई सामग्री के बारे में अपने माता-पिता को सूचित करें या बताएं।.

आईएसईए जागरूकता कार्यक्रम हमेशा आपको शिक्षक/छात्रों के लिए ऑनलाइन सुरक्षा से जुड़े सुझाव व उपाय देता है। इंटरनेट उपयोग से पहले इन दिशानिर्देशों/चरणों का पालन करें।.

चरण 1: एक वेब ब्राउज़र का उपयोग

इंटरनेट अपने मित्रों और परिवार से जुड़े रहने के लिए है और कई छात्रों के लिये समाचार, अनुसंधान सूचना या ऑनलाइन शॉपिंग और किताब डाउनलोडिंग, ऑनलाइन आवेदन आदि जैसी गतिविधियों को पूरा करने का एक तरीका है। इंटरनेट बैंकिंग, बिल भुगतान और आवेदन व फार्म्स भरने का एक लोकप्रिय विकल्प बन गया है।.

वेब ब्राउज़र के उपयोग से ऑनलाइन गतिविधि करना आसान है लेकिन इस दौरान कुछ खतरा आप पर एवं आपके कंप्यूटर में छुप सकता है। हो सकता है वायरस, स्पाईवेयर, और एडवेयर के साथ मैलवेयर जोखिम से आपकी संवेदनशील व्यक्तिगत जानकारी प्रभावित होकर दुरुपयोग के लिये उपलब्ध हो जाये। सुरक्षित ब्राउज़िंग इन ऑनलाइन खतरों के बारे जागरुक करती है और इनसे बचने के लिए आवश्यक सावधानियाँ अपनाने के लिए प्रेरित करती है।.

यह केवल एक छोटा प्रयास, कुछ टूल्स और कुछ आधारभूत जानकारियों का मिला-जुला प्रयास है जो आपकी इंटरनेट ब्राउजिंग को सुरक्षित बनाता है। इन दिशा-निर्देशों के पालन से व्यक्तिगत जानकारी और ऑनलाइन कम्प्यूटिंग को सुरक्षित बनाया जा सकता है।.

  • अपने कंप्यूटर या डिवाइस में अप-टू-डेट एंटी-वायरस सॉफ्टवेयर इंस्टाल करें एवं बनाये रखें।.
  • अपने इंटरनेट ब्राउज़र को अप-टू-डेट रखें।
  • कंप्यूटर से जुड़ी असामान्य गतिविधियों या समस्याओं के प्रति सचेत रहें।.
  • अपने कंप्यूटर में फ़ायरवॉल इंस्टाल कर बनाए रखें।.
  • पॉप-अप ब्लॉक की सुविधा वाले आधुनिक ब्राउज़र का उपयोग करें।.
  • संवेदनशील सामग्री को अपने कंप्यूटर में लंबे समय तक रखने से बचें।.
  • अपना पासवर्ड बदलते रहें।.
  • ई-मेल या इंस्टेंट मेसेज से भेजी गयी लिंक या अटेचमेंट से सावधान रहें।.

चरण 2: 'दोस्त' बनाना

हम सभी जानते हैं कि एक कंप्यूटर स्क्रीन के सामने घंटों खर्च करना स्वास्थ्यकर नहीं है। लेकिन सामाजिक नेटवर्किंग के साथ एक समस्या यह भी है कि इसमें बहुत अधिक दोस्त होने की सुनिश्चिता का दवाब होने से आप हमेशा मित्र बनाने के लिए उत्सुक रहते हैं या अन्य शब्दों में आपकी फ्रेंडलिस्ट के कुल नंबर की तुलना हमेशा दवाब पैदा करती है।:

  • ऑनलाइन दोस्ती केवल एक बटन क्लिक करने से हो जाती है न कि लोगों से बात करने और अनुभवों को बांटने से।.
  • आमने-सामने की दोस्ती की तुलना में किसी के साथ ऑनलाइन 'मित्र' होना ज्यादा महत्वपूर्ण नहीं है।.
  • आप आसानी से किसी टिप्पणी की नासमझी से ऑनलाइन 'दोस्त' छोड़ सकते हैं ।.
  • रुबरु किसी के साथ तर्क करना या समस्याएं सुलझाना बहुत आसान है, और अच्छा भी है।

इसलिए यदि आपके कोई जानकार अपनी सामाजिक नेटवर्किंग साइट पर बहुत ज्यादा दोस्त होने के दावे को पसंद करते हैं तो याद रखें असली दोस्ती कंप्यूटर पर और कंप्यूटर द्वारा नहीं होती है।.

ऐसे होने से कैसे बचा सकता हैं

  • सुनिश्चित करें कि आप सही उम्र सीमा में इसमें शामिल हुए हैं।
  • अपनी प्रोफाइल के लिए बनाए गये नाम या उपनाम का उपयोग करें।.
  • व्यक्तिगत रूप से अनजान लोगों को दोस्त न बनाएं।.
  • हो सकता है तो अपने बिना नाम वाले ईमेल पते का उपयोग करें।.
  • अपने प्रोफ़ाइल को सेट करने में मजबूत प्राइवेसी सेटिंग का उपयोग करें। अभिप्राय है कि इससे केवल आपके दोस्त ही आपकी जानकारियां देख पाएंगे।.
  • तस्वीरें और वीडियो बहुत आसानी से इंटरनेट पर साझा किये जा सकते हैं, इसलिए अपलोडिंग से पहले सावधान रहें-भले ही आप यह केवल दोस्तों के साथ साझा करते हों, यह आसानी से बहुत लोग के बीच साझा हो सकता है।
  • ऑनलाइन विषयसामग्री साझा करने में सावधान रहें- खासकर तब जब सामग्री साझा करने वाली नहीं हो। अवैध डाउनलोडिंग से बचना चाहिए।.

चरण 3: स्मार्टफोन सुरक्षा

हम स्मार्ट फोन पर दोस्तों या परिवार को फोन करने के लिये ही भरोसा नहीं करते हैं। आधुनिक स्मार्टफोन से- इंटरनेट ब्राउज़िंग और बिलों का भुगतान करने से लेकर बैंक स्टेटमेंट की जाँच करने में एवं औपचारिक ईमेल प्राप्त करने जैसे अनेक कार्य किये जा सकते हैं । क्योंकि आज स्मार्ट फोन काफी उन्नत हो गये है और कंप्यूटर सुरक्षा से जुड़े कई विषय अब स्मार्ट फोन से जुड़ गये हैं।.

इससे क्या खतरा होता है?

  • डिवाइस खोना या चोरी होना। गलती से डिवाइस खोना या चोरी होना प्रोडक्टिविटी हानि, डेटा हानि और डेटा संरक्षण कानून के अंतर्गत आपकी संभावित जिम्मेदारी का कारण हो सकता है।.
  • संवेदनशील डेटा खोना। उदाहरण के लिए कई मोबाइल डिवाइस में संवेदनशील या गोपनीय जानकारी जैसे व्यक्तिगत फोटो, वीडियो, ईमेल मैसेज,टैक्स्ट मैसेज और फ़ाइल्स हो सकती हैं।.
  • अवैध नेटवर्क आक्रमण। क्योंकि कई मोबाइल डिवाइस नेटवर्क कनेक्टिविटी के अनेक विकल्प देती हैं, जो संरक्षित कॉर्पोरेट सिस्टम पर हमला के लिए इस्तेमाल हो सकता है।.
  • अवरोधित या अनुपयोगी डेटा। मोबाइल डिवाइस में काफी सारे व्यापारिक लेनदेन होते हैं, जो हमेशा एक चिंता का विषय है क्योंकि महत्वपूर्ण(क्रिटिकल) डाटा टेप्टड फोन लाइन से अवरोधित या अवरोधित माइक्रोवेव प्रसारण से रोका जा सकता है।.
  • दोषपूर्ण(मलिशस)सॉफ़्टवेयर। वायरस, ट्रोजन होर्स, और वोर्म्स मोबाइल डिवाइस के लिए परिचित खतरें हैं और मोबाइल डिवाइस पर अटैक के लिए एक महत्वपूर्ण लक्ष्य बन गया है।.

मैं इसे कैसे होने से रोक सकता हूँ?

  • मोबाइल डिवाइस के चयन में उसकी सुरक्षा सुविधाओं को ध्यान में रखें और उनकी सक्षमता सुनिश्चित करें ।.
  • अपनी स्मार्ट डिवाइस में एंटी वायरस एप्लीकेशन को इंस्टाल करने के साथ चालू रखें।.
  • टैक्स मैसेज या संदेहजनक ईमेल लिंक नहीं खोलें।.
  • डिवाइस में स्टोर की जाने वाली जानकारियों को ध्यानपूर्वक जांच लें।
  • एप्लीकेशन का चुनाव और इंस्टालेशन सतर्कता से करें।
  • ब्लूटूथ, इन्फ्रारेड या वाई-फाई का इन्टर्फेस उपयोग न होने की स्थिति में डिसेबल कर दें।.
  • अनजान वाई-फाई नेटवर्क से जुड़ने और असुरक्षित वाई-फाई हॉटस्पाट का उपयोग करने से बचें।.
  • डिवाइस डिस्कार्ड करने से पूर्व में स्टोर सभी जानकारी डिलीट कर दें।.
Page Rating (Votes : 6)
Your rating: